हमारे सूत्रधार
(1935-2012)
दैनिक सबेरा संकेत की स्थापना स्व. श्री शरद कोठारी ने वर्ष 1955-56 में एक पाक्षिक समाचार पत्र के रूप में तत्कालीन मध्यप्रान्त के एक छोटे से नगर राजनंदगांव में की जो की आज छत्तीसगढ़ राज्य का एक प्रमुख शहर हो गया है तथा प्रदेश की राजनितिक गतिविधियों का एक महत्वपूर्ण केंद्र है |

पाक्षिक से साप्ताहिक तथा साप्ताहिक के बाद वर्ष 1975 से सबेरा संकेत प्रात: कालीन हिंदी दैनिक के रूप में निरंतर प्रकाशित हो रहा है |

प्रदेश के समाचार पत्रों में आज सबेरा संकेत का लघु व स्थनीय पत्रों की श्रेणी में विशिष्ठ स्थान है | स्थापना के प्रारंम्भिक वर्षो में सबेरा संकेत का नाम सबेरा था जिसे कुछ कारणों से वर्ष 1968-69 में परिवर्तित कर सबेरा संकेत किया गया | 60 वर्षो की अपनी यात्रा में सबेरा संकेत ने शनै: शनै: प्रगति की है जिसका श्रेय निर्भीक व निष्पक्ष पत्रकारिता के कारण पाठको एवं लेखको से प्राप्त बहुमूल्य सहयोग को है |

हमारे कई स्तम्भ व हमारे कई कर्मचारी गत दीर्घ अवधि से हमे अविस्मरणीय सहयोग प्रदान कर रहे है | विज्ञापनों की दृष्ठि से भी प्रदेश के अन्य लघु व स्थानीय समाचार पत्रों की तुलना में सबेरा संकेत की लोक प्रियता व्यापक है | हमारे कई विज्ञापन दाता भी दीर्घकालीन है | समाचार पत्र को प्राम्भ से ही केंद्र सरकार , प्रदेश सरकार , विभिन्न शासकीय अर्ध शासकीय संस्थानों, सार्वजानिक व निजी उपक्रमों के विज्ञापन नियमित प्राप्त हो रहे है |

अब प्रस्तुत करते हुए अत्यंत प्रसन्नता हो रही है | यह भी हमारी प्रगति का एक चरण है |

शुशील कोठारी
संपादक एवं प्रकाशक
© 2017 Sabera Sanket, Rajnandgaon. All Rights Reserved. || Developed By  A.S.S. Technology, Rajnandgaon
web counter